वार्ता के बाद लिया जाएगा हड़ताल का निर्णय, एम्बुलेंस कर्मचारियों से होगी वार्ता


देवेंद्र शर्मा...
राजस्थान एम्बुलेंस कर्मचारी यूनियन प्रदेशाध्यक्ष वीरेंद्र सिंह शेखावत बताया कि एम्बुलेंस कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर सरकार को सोमवार से हड़ताल की चेतावनी दे रखी थी लेकिन आज परियोजना निदेशक अनिल पालीवाल ने कल सुबह 11 बजे वार्ता के लिए बुलाया गया है. बता दें कि एम्बुलेंस कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारियों के साथ कल सुबह 11 बजे मिशन निदेशक नरेश कुमार ठकराल के कार्यालय में वार्ता होगी और अब वार्ता के बाद ही हड़ताल का निर्णय लिया जायेगा.

इस संदर्भ में शेखावत ने बताया कि एम्बुलेंस कर्मचारी अक्टूबर 2019 से अपनी मांगों को लेकर संघर्षरत हैं लेकिन आजतक आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला जबकि एम्बुलेंस कर्मचारी पूरे कोराना काल में प्रथम सिपाही बनकर प्रदेशवासियों की सेवा कर रहे हैं लेकिन सरकार द्वारा एम्बुलेंस कर्मचारियों की अनदेखी कर रही है. उन्होंने बताया कि एम्बुलेंस कर्मचारी यूनियन के प्रतिनिधि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अधिकारियों से पिछले 6 माह से लगातार वार्ताएं चल रही है.

बता दें कि कुछ दिन पूर्व राजस्थान एम्बुलेंस कर्मचारी यूनियन के बैनर तले जयपुर में एम्बुलेंस कर्मचारियों की प्रदेश स्तरीय बैठक आयोजित हुई. बैठक में बताया गया कि पिछले 6 माह से कर्मचारी अधिकारी को अपनी समस्याओं के बारे में अवगत करवा रहे हैं लेकिन कोई भी सुनवाई नहीं हो रही. एम्बुलेंस कर्मचारियों की सुनवाई नहीं होने के चलते बैठक में निर्णय लिया गया था है कि यदि हमारी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो 12 अक्टूबर यानि सोमवार को पूरे प्रदेश में एम्बुलेंस सेवा बंद कर दी जायेगी. इस बैठक में एम्बुलेंस सेवा 108 व 104 के सभी जिलों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया था.

राजस्थान एम्बुलेंस कर्मचारियों की विभिन्न परेशानियों...
शेखावत ने बताया कि एम्बुलेंस सेवा प्रदाता कम्पनी की तरफ से भी कर्मचारियों को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. जैसे एम्बुलेंस वाहनों मे समय पर डीजल नही डलवाना, मरम्मत कार्य समय पर नही करवाना, एम्बुलेस वाहनो मे कोरोना से सुरक्षा के लिए मास्क गल्फस सेनेटाइजर इत्यादि उपलब्ध नही करवाना, एम्बुलेंस कर्मचारीयो को बिना कारण कम्पनी के अधिकारीयो द्वारा परेशान करना, खटारा एम्बुलेंस वाहनों को जबदस्ती चलवाना व उनका डीजल एवरेज के लिए परेशान किया जाता है.

Comments